मिस्त्र की एक शीर्ष अदालत ने रविवार को 2013 में एक पुलिसकर्मी की हत्या के मामले के सात अभियुक्तों की मृत्युदंड की सजा को बरकरार रखा है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, कोर्ट ऑफ कैसेशन ने राजधानी काहिरा के पूर्वोत्तर में स्थित इस्मालिया आपराधिक अदालत द्वारा दिए गए मृत्युदंड के पिछले फैसले को बरकरार रखा है। आपराधिक अदालत ने आरोपियों को 2013 के अंत में गश्त के दौरान पुलिसकर्मी अहमद रादवान अबु-डोमा पर हमला कर उसकी हत्या करने और उसकी बंदूक छीनने के लिए मृत्युदंड की सजा सुनाई थी। यह अंतिम फैसला है और इसके खिलाफ अपील नहीं की जा सकेगी क्योंकि शीर्ष अदालत ने मुलजिमों की अपील को खारिज कर दिया है। इसी मामले में दो अन्य मुलजिमों को भगोड़ों को शरण देने के लिए दो और तीन साल जेल की सजा सुनाई गई है।